शुक्रवार, 11 जून 2021

कश्तियाँ डूबीं अनेकों फिर भी घबराया नहीं ...

देख कर तुमको जहाँ में और कुछ भाया नहीं.
कैसे कह दूँ ज़िन्दगी में हमने कुछ पाया नहीं.
 
सोच लो तानोगे छतरी या तुम्हे है भीगना,
आसमाँ पे प्रेम का बादल अभी छाया नहीं.
 
प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,  
लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.
 
पत्थरों से दिल लगाने का हुनर भी सीख लो,
फिर न कहना वक़्त रहते हमने समझाया नहीं.
 
प्रेम हो, शृंगार, मस्ती, या विरह की बात हो,
कौन सा है रंग जिसको प्रेम ने गाया नहीं.
 
तुमको पाया, रब को पाया, और क्या जो चाहिए,
कश्तियाँ डूबीं अनेकों फिर भी घबराया नहीं.

27 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय गजल

    जवाब देंहटाएं
  2. देख कर तुमको जहाँ में और कुछ भाया नहीं.
    कैसे कह दूँ ज़िन्दगी में हमने कुछ पाया नहीं.

    सोच लो तानोगे छतरी या तुम्हे है भीगना,
    आसमाँ पे प्रेम का बादल अभी छाया नहीं.
    ..बहुत सुंदर भावों का सृजन,जीवन को परिपूर्ण करता हुआ,बहुत शुभकामनाएँ आपको दिगम्बर जी।

    जवाब देंहटाएं
  3. गजब ढा दिया सरकार। प्रेम में सराबोर सब कुछ। जय हो

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह !
    प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,
    लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.

    बेहद उम्दा शायरी !

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह! अद्भुत भावों की सुंदर ग़ज़ल हर शेर लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  6. देख कर तुमको जहाँ में और कुछ भाया नहीं.
    कैसे कह दूँ ज़िन्दगी में हमने कुछ पाया नहीं.
    वाह!!!
    प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,
    लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.
    क्या बात ....कमाल की गजल एक से बढ़कर एक शेर...
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं

  7. पत्थरों से दिल लगाने का हुनर भी सीख लो,
    फिर न कहना वक़्त रहते हमने समझाया नहीं.

    वाह बहुत ही बेहतरीन पेशकश ।
    बाकमाल ग़ज़ल पेश की है आ0 दिगम्बर साहब ।
    मेरी जानिब से ढ़ेरों दाद वसूल पाइएगा ।

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह वाह
    कमाल कर दिया साहब. बहुत उम्दा गजल.

    मैंने ऐसे विषय पर; जो आज की जरूरत है एक नया ब्लॉग बनाया है. कृपया आप एक बार जरुर आयें. ब्लॉग का लिंक यहाँ साँझा कर रहा हूँ- नया ब्लॉग नई रचना

    जवाब देंहटाएं
  9. प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,
    लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.

    पत्थरों से दिल लगाने का हुनर भी सीख लो,
    फिर न कहना वक़्त रहते हमने समझाया नहीं.

    क्या बात है नसवा जी .... आपका प्रेम भरा दिल आज क्या समझाने चला है ? :}

    बेहतरीन ग़ज़ल

    जवाब देंहटाएं
  10. आपकी लिखी  रचना  सोमवार 21  जून   2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।संगीता स्वरूप 

    जवाब देंहटाएं
  11. बेहतरीन👌👌
    प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,
    लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.
    👏👏👏

    जवाब देंहटाएं
  12. प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,
    लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.

    पत्थरों से दिल लगाने का हुनर भी सीख लो,
    फिर न कहना वक़्त रहते हमने समझाया नहीं.

    वाह !! बहुत खूब...हमेशा की तरह लाजबाब...,सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं
  13. प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,
    लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.
    वाह!! बेहतरीन ग़ज़ल आदरणीय।

    जवाब देंहटाएं
  14. बेहतरीन ग़ज़ल हमेशा की तरह लाज़वाब हर बंध।

    प्रणाम सर।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  15. लेखन की परिपक्वता निखर कर शिखर तक है , सोना पर सुहागा।
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  16. प्रेम की पग-डंडियों पर पाँव रखना सोच कर,
    लौट कर इस राह से वापस कोई आया नहीं.

    वाह..

    जवाब देंहटाएं
  17. तुमको पाया, रब को पाया, और क्या जो चाहिए,
    कश्तियाँ डूबीं अनेकों फिर भी घबराया नहीं.,,,,,।बहुत सुंदर ग़ज़ल हमेशा की तरह,,, आदरणीय शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  18. तुमको पाया, रब को पाया, और क्या जो चाहिए,
    कश्तियाँ डूबीं अनेकों फिर भी घबराया नहीं.
    बहुत बहुत शानदार ग़ज़ल

    जवाब देंहटाएं

  19. सोच लो तानोगे छतरी या तुम्हे है भीगना,
    आसमाँ पे प्रेम का बादल अभी छाया नहीं.
    उफ ! कहाँ से उतरते हैं ये गज़ब के अशआर !

    और इसके भी क्या कहने ....
    पत्थरों से दिल लगाने का हुनर भी सीख लो,
    फिर न कहना वक़्त रहते हमने समझाया नहीं.

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है