बुधवार, 23 जून 2021

पंख लगा कर पंछी जैसे चल अम्बर चलते हैं ...

सर्द हवा में गर्म चाय का थर्मस भर चलते हैं.
पंख लगा कर पंछी जैसे चल अम्बर चलते हैं.
 
खिड़की खुली देख कर उस दिन शाम लपक कर आई,
हाथ पकड़ कर बोली बेटा चल छत पर चलते हैं.
 
पर्स हाथ में ले कर जब वो पैदल घर से निकली,
इश्क़ ने फिर चिल्ला के बोला चल दफ्तर चलते हैं.
 
सब के साथ तेरी आँखों में दिख जाती है हलचल,
जब जब बूट बजाते हम जैसे अफसर चलते हैं.
 
गश खा कर कुछ लोग गिरे थे, लोगों ने बोला था,
पास मेरे जब आई बोली चल पिक्चर चलते हैं.
 
जब जब उम्र ठहरने लगती दफ्तर की टेबल पे,
धूल फांकती फ़ाइल बोली चल अब घर चलते हैं.
 
याद किसी की नींद कहाँ आने देगी आँखों में,
नींद की गोली खा ले चल उठ अब बस कर चलते हैं. 

27 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!गज़ब का सृजन सर।
    बहुत ही सुंदर।

    पर्स हाथ में ले कर जब वो पैदल घर से निकली,
    इश्क़ ने फिर चिल्ला के बोला चल दफ्तर चलते हैं..वाह!

    जवाब देंहटाएं
  2. आती क्या खंडाला से आगे की रचना...ऐज़ युज़ुअल...बेहतरीन...👌👌👌

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 24-06-2021को चर्चा – 4,105 में दिया गया है।
    आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद सहित
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  4. सर्द हवा में गर्म चाय का थर्मस भर चलते हैं.
    पंख लगा कर पंछी जैसे चल अम्बर चलते हैं.
    बहुत सुंदर पंक्तियां

    जवाब देंहटाएं
  5. यह ग़ज़ल मनमौजी अंदाज़ में लिखी है आपने दिगम्बर जी। आनंद आ गया पढ़कर।

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह !! बहुत खूब !!
    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल । बेफिक्री के मूड को दर्शाती अति सुन्दर
    भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  7. याद किसी की नींद कहाँ आने देगी आँखों में,
    नींद की गोली खा ले चल उठ अब बस कर चलते हैं.

    वाह !! बहुत खूब...एक से बढ़कर एक लाजबाब शेर...सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं
  8. खूबसूरत अंदाजेबयां,बेहतरीन गज़ल ।

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह!एक अलग अंदाज की हासृय रस की ग़ज़ल मस्ती से भरी।
    बहुत खूब।

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह! लाजवाब ग़ज़ल! दाद स्वीकारें.

    जवाब देंहटाएं
  11. सर्द हवा में गर्म चाय का थर्मस भर चलते हैं.
    पंख लगा कर पंछी जैसे चल अम्बर चलते हैं,,,,,,,,, बहुत सुंदर ग़ज़ल बारिश और गर्म चाय,।

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह ! नए अंदाज की गजल

    जवाब देंहटाएं
  13. आज तो गज़ब के मूड में लिखी है ग़ज़ल ।

    बेहतरीन ।

    जवाब देंहटाएं
  14. वाह क्‍या बात है नासवा जी, गश खा कर कुछ लोग गिरे थे, लोगों ने बोला था,
    पास मेरे जब आई बोली चल पिक्चर चलते हैं.....मनमौजी गज़ल

    जवाब देंहटाएं
  15. पर्स हाथ में ले कर जब वो पैदल घर से निकली,
    इश्क़ ने फिर चिल्ला के बोला चल दफ्तर चलते हैं.
    वाह!!!
    क्या बात...
    अलग ही अंदाज... लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  16. याद किसी की नींद कहाँ आने देगी आँखों में,
    नींद की गोली खा ले चल उठ अब बस कर चलते हैं.
    लगभग हर व्यक्ति की जुबां को एक अभिव्यक्ति दे देते हैं आपके अलफ़ाज़ !! लिखते रहिये

    जवाब देंहटाएं
  17. सर्द हवा में गर्म चाय का थर्मस भर चलते हैं.
    पंख लगा कर पंछी जैसे चल अम्बर चलते हैं.
    वाह सर ! दिल तो पहले ही शेर पर मर मिटा!
    आगे आगे तो गज़ब की बातें मिलीं, जैसे -
    सब के साथ तेरी आँखों में दिख जाती है हलचल,
    जब जब बूट बजाते हम जैसे अफसर चलते हैं.
    और.....
    जब जब उम्र ठहरने लगती दफ्तर की टेबल पे,
    धूल फांकती फ़ाइल बोली चल अब घर चलते हैं.
    बहुत पसंद आई ये ग़ज़ल भी !

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है