गुरुवार, 1 जुलाई 2021

दिल से अपने पूछ के देखो ज़रा ...

बात उन तक तो ये पहुँचा दो ज़रा.
शर्ट का टूटा बटन टांको ज़रा.
 
छा रही है कुछ उदासी देर से,
बज उठो मिस कॉल जैसे तो ज़रा.
 
बात गर करनी नहीं तो मत करो,
चूड़ियों को बोल दो, बोलो ज़रा.
 
खिल उठेगा यूँ ही जंगली फूल भी,
पंखुरी पे नाम तो छापो ज़रा.  
 
तुमको लग जाएगी अपनी ही नज़र,
आईने में भी कभी झाँको ज़रा.
 
तितलियाँ जाती हुई लौट आई हैं,
तुम भी सीटी पे ज़रा, पलटो ज़रा.
 
उफ़, लिपस्टिक का ये कैसा दाग है, 
इस मुए कौलर को तो पौंछो ज़रा.
 
खेल कर, गुस्सा करो, क्या ठीक है, 
हार से पहले कहो, हारो ज़रा.
 
बोलती हो, सच में क्या छोड़ोगी तुम,
दिल से अपने पूछ के देखो ज़रा.

22 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार (02-07-2021) को "गठजोड़" (चर्चा अंक- 4113) पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद सहित।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह वाह , गज़ब लिखी है ।
    हर शेर पर जबरदस्त दाद 👌👌👌👌👌👌👌.
    माशाअल्लाह ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर हर बंद गज़ब।

    सादर

    जवाब देंहटाएं

  4. बात गर करनी नहीं तो मत करो,
    चूड़ियों को बोल दो, बोलो ज़रा.

    खिल उठेगा यूँ ही जंगली फूल भी,
    पंखुरी पे नाम तो छापो ज़रा. अन्तर्मन तक दस्तक देती लाजवाब गजल।

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी रचना बहुत ही अच्छी है दिगम्बर जी। अंतिम छंद का तो कहना ही क्या!

    जवाब देंहटाएं
  6. छा रही है कुछ उदासी देर से,
    बज उठो मिस कॉल जैसे तो ज़रा.

    बात गर करनी नहीं तो मत करो,
    चूड़ियों को बोल दो, बोलो ज़रा.

    वाह !! क्या बात है,लाजबाब...सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं
  7. बोलती हो, सच में क्या छोड़ोगी तुम,
    दिल से अपने पूछ के देखो ज़रा.
    .. . अंजाज बहुत खूब है ..

    जवाब देंहटाएं

  8. तुमको लग जाएगी अपनी ही नज़र,
    आईने में भी कभी झाँको ज़रा.

    तितलियाँ जाती हुई लौट आई हैं,
    तुम भी सीटी पे ज़रा, पलटो ज़रा.

    वाह!!!
    कमाल की गजल...
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया सर। हर शेर मुकम्मल है। दिल से पूछ कर कह रहा हूं।

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह नासवा जी, "उफ़, लिपस्टिक का ये कैसा दाग है,
    इस मुए कौलर को तो पौंछो ज़रा." खूबसूरती से टांके हुए अल्फाज़

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह! गजब ।
    बात ही बात में ग़ज़ल बना दी आपने हर भाव रोजमर्रा की बातों से निकल रहे हैं हर शेर दूसरे पर सवा सेर।
    उम्दा/बेहतरीन।

    जवाब देंहटाएं
  12. बात गर करनी नहीं तो मत करो,
    चूड़ियों को बोल दो, बोलो ज़रा.
    संवाद को इस तरह से भी व्यक्त किया जा सकता है !! बेहतरीन ग़ज़ल

    जवाब देंहटाएं
  13. वाह! अंतर्मन की गहराइयों से लिखी और अंतर्मन की गहराईयों तक जाती रचना। एक एक पंक्ति लाजवाब👏🏼👏🏼👏🏼👏🏼

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत खूबसूरत, अलग ही अंदाज, ताजगी से भरी रचना।

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है