बुधवार, 15 सितंबर 2021

वक़्त ने करना है तय सबका सफ़र

उम्र तारी है दरो दीवार पर.
खाँसता रहता है बिस्तर रात भर.
 
जो मिला, मिल तो गया, बस खा लिया,
अब नहीं होती है हमसे न-नुकर. 
 
सुन चहल-कदमी गुज़रती उम्र की,
वक़्त की कुछ मान कर अब तो सुधर. 
 
रात के लम्हे गुज़रते ही नहीं,
दिन गुज़र जाता है खुद से बात कर.
 
सोचता कोई तो होगा, है वहम,
कौन करता है किसी की अब फिकर.
 
था खरीदा, बिक गया तो बिक गया,
क्यों इसे कहने लगे सब अपना घर.
 
मौत की चिंता जो कर लोगे तो क्या,
वक़्त ने करना है तय सबका सफ़र.


18 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 15 सितम्बर 2021 शाम 3.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. क्या बात है बेहद शानदार अ'शार हैं सारे।
    प्रयोगात्मक हर शेर नयापन लिए हुए है।
    प्रणाम
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा 16.09.2021 को चर्चा मंच पर होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह!बहुत सुंदर सर।
    लाज़वाब सृजन।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 16 सितंबर 2021 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
  6. अप्रतिम,सृजन 'वक्त ने करना है तय सबका सफ़र'बहुत खूब।

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह! बहुत ख़ूब! वृद्धावस्था का यथार्थ वर्णन, यदि वक्त रहते ये सारी बातें कोई सीख ले तो मरने का न कोई मलाल रहेगा न ही रातें करवटें बदलते बीतेंगी, पर कोई क्या करे, वक्त पड़ने पर कुआँ खोदने की आदमी की पुरानी आदत है

    जवाब देंहटाएं
  8. ज़िन्दगी के सफर को बयाँ करती खूबसूरत ग़ज़ल ।

    जवाब देंहटाएं
  9. खाँसता रहता है बिस्तर रात भर.
    गजब!!
    हर शेर बेमिसाल।
    अनुपम।

    जवाब देंहटाएं
  10. जैसे हर शब्द से झांक रहा हो सच पर जी न मान रहा हो । कुछ ऐसा ही । लाजवाब ।

    जवाब देंहटाएं
  11. मौत की चिंता जो कर लोगे तो क्या,
    वक़्त ने करना है तय सबका सफ़र.

    सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  12. उम्र तारी है दरो दीवार पर.
    खाँसता रहता है बिस्तर रात भर.

    जो मिला, मिल तो गया, बस खा लिया,
    अब नहीं होती है हमसे न-नुकर.

    सुन चहल-कदमी गुज़रती उम्र की,
    वक़्त की कुछ मान कर अब तो सुधर.

    वाह क्या बात है। इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।  Zee Talwara

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है