शनिवार, 18 दिसंबर 2021

हो न तलवार तो हम ढाल में ढाले जाते ...

अनसुनी कर के जो हम वक़्त को टाले जाते.
घर से जाते न तो चुपचाप निकाले जाते.

ये तो बस आपने पहचान लिया था वरना,
दर्द तो दूर न ये पाँव के छाले जाते.

शुक्र है वक़्त पे बरसात ने रख ली इज़्ज़त,
देर तक अश्क़ न पलकों में सम्भाले जाते.

मौंके पर डँसना जो मंज़ूर न होता उनको,
आस्तीनों में कभी सांप न पाले जाते.

चंद यादें जो परेशान किया करती हैं,
बस में होता जो हमारे तो उठा ले जाते.

आईना बन के हक़ीक़त न दिखाते सब को,
हम भी बदनाम रिसालों में उछाले जाते.

हमको हर सच की तरफ़ डट के खड़ा रहना था,
हो न तलवार तो हम ढाल में ढाले जाते.


23 टिप्‍पणियां:

  1. वाह उत्कृष्ट सृजन।
    शुक्र है वक्त पे बरसात ने रख ली इज्जत.….सम्हाले जाते. 👌👌
    लाजवाब!
    हर बार की तरह बेमिसाल।

    जवाब देंहटाएं
  2. शुक्र है वक़्त पे बरसात ने रख ली इज़्ज़त,
    देर तक अश्क़ न पलकों में सम्भाले जाते.


    वाह सर् जी क्या लाज़वाब शेर कहा है।

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह!वाह!गज़ब के शेर 👌
    शुक्र है वक़्त पे बरसात ने रख ली इज़्ज़त,
    देर तक अश्क़ न पलकों में सम्भाले जाते.. वाह!

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही उम्दा ग़ज़ल नासवा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  5. सदैव की तरह ग़ज़लों की श्रृंखला में एक और नायाब ग़ज़ल रुपी मोती । बेहतरीन भावो से सम्पन्न गहन सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  6. मौंके पर डँसना जो मंज़ूर न होता उनको,
    आस्तीनों में कभी सांप न पाले जाते.
    वाह, सच कहा बिना फायदे के कुछ नहीं होता
    बहुत खूब..

    जवाब देंहटाएं
  7. अनसुनी कर के जो हम वक़्त को टाले जाते.
    घर से जाते न तो चुपचाप निकाले जाते.
    चुपचाप या धक्के मारकर!
    वाह!!!
    क्या बात...
    शुक्र है वक़्त पे बरसात ने रख ली इज़्ज़त,
    देर तक अश्क़ न पलकों में सम्भाले जाते.
    कमाल की गजल...एक से बढ़कर एक शेर
    वाह वाह...

    जवाब देंहटाएं
  8. बेहतरीन रचना सर।
    हर बंध बेहद लाज़वाब है।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं

  9. हमको हर सच की तरफ़ डट के खड़ा रहना था,
    हो न तलवार तो हम ढाल में ढाले जाते...जीवन से जुड़ा बहुत सुंदर शेर । पूरी गज़ल लाजवाब ।

    जवाब देंहटाएं
  10. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर रविवार 19 दिसंबर 2021 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं

  11. हमको हर सच की तरफ़ डट के खड़ा रहना था,
    हो न तलवार तो हम ढाल में ढाले जाते.
    बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  12. हमको हर सच की तरफ़ डट के खड़ा रहना था,
    हो न तलवार तो हम ढाल में ढाले जाते.

    वाह क्या बात है बहुत ही उम्दा व शानदार...

    जवाब देंहटाएं
  13. शुक्र है वक़्त पे बरसात ने रख ली इज़्ज़त,
    देर तक अश्क़ न पलकों में सम्भाले जाते.

    मुझे इसीलिए बारिश पसंद है ....
    लाजवाब ग़ज़ल

    जवाब देंहटाएं
  14. आपको जन्‍मदिन की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत ख़ूबसूरत लेकिन दर्द भरी ग़ज़ल !

    जवाब देंहटाएं
  16. शुक्र है वक़्त पे बरसात ने रख ली इज़्ज़त,
    देर तक अश्क़ न पलकों में सम्भाले जाते.......​बहुत शानदार और प्रभावी !! जन्मदिन की अनेक अनेक शुभकामनाएं सर , आप हमेशा ऐसे ही लिखते रहे यही कामना है

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है