शनिवार, 12 मार्च 2022

प्रेम ...

प्रेम तो शायद हम दोनों ही करते थे
मैंने कहा ... मेरा प्रेम समुन्दर सा गहरा है

उसने कहा ... प्रेम की पैमाइश नहीं होती
 
अचानक वो उठी ... 

चली गई, वापस न आने के लिए

और मुझे भी समुन्दर का तल नहीं मिला ...

18 टिप्‍पणियां:

  1. समुन्दर का तल नहीं मिला...
    इससे बेहतर अभिव्यक्ति क्या होती प्रेम की !!!

    जवाब देंहटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज रविवार (१३ -०३ -२०२२ ) को
    'प्रेम ...'(चर्चा अंक-४३६८)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रेम को परिभाषित करती खूबसूरत कृति।

    जवाब देंहटाएं
  4. इस स्वीकार में ही तो वही है...

    जवाब देंहटाएं
  5. "मेरा प्रेम समुन्दर सा गहरा है"
    "प्रेम की पैमाईश नहीं होती"
    क्या बात है आदरणीय ! सचमुच प्रेम की गहराई मापने वाला पैमाना कहाँ है ! लाजवाब !! बहुत खूब आदरणीय ।

    जवाब देंहटाएं
  6. समुद्र के तल की खोज अनवरत चलती रहती है नासवा जी, बहुत खूब लिखा ...वाह

    जवाब देंहटाएं
  7. वो चली गयी प्रेम में बिना पैमाइश के...
    और समुद्र सा गहरा प्रेम भी गहराता गया और गहरे....पर तल न ढूँढ पाया...
    प्रेम की पराकाष्ठा...
    वाह!!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. शानदार सृजन!
    प्रेम की थाह नापने की कोशिश में अक्सर व्यक्ति भटक जाता है, तल भला कैसे मिलेगा।
    उम्दा सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  9. सच प्रेम की गहराई समुद्र से भी गहरी होती है जिसकी कोई थाह नहीं
    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह !प्रेम की सुंदर परिभाषा !

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत खूबसूरती से प्रेम को तराशा है ।
    बहुत शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है