बुधवार, 8 जून 2022

एहसास ...

जब तक नहीं पड़ती धूल आँखों में
एहसास नहीं होता  
आती-जाती साँसों का एहसास भी तब तक नहीं 
रुकने न लगे हवा जब तक
 
वैसे रात का एहसास भी रौशनी के जाने से नहीं
अंधेरे के आने से होता है
 
मैं जानता हूँ नहीं जुडी ऐसी कोई भी वजह तेरे एहसास के साथ
सिवाए इसके की मैं तुझे प्रेम करने के लिए पैदा हुआ हूँ
मेरे जंगली गुलाब तेरे होने का एहसास मेरी साँसों तक तो है न ...  

#जंगली_गुलाब

21 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 9 जून 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
  2. एहसास पर ही जैसे टिकी दुनिया ।।बहुत खूब ।👌👌👌

    जवाब देंहटाएं
  3. गज़ब ! सटीक व्याख्या , गहन अहसास समेटे भाव।
    बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  4. प्रेम करने के लिए नहीं, प्रेम ही बन जाता है अस्तित्त्व जब, तब उसके अहसास की कोई वजह नहीं होती

    जवाब देंहटाएं
  5. वैसे रात का एहसास भी रौशनी के जाने से नहीं
    अंधेरे के आने से होता है,
    गहन रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह ..रोशनी के जाने और अँधेरे के आने में कितना फर्क होता है ..प्रेम का खूबसूरत एहसास .

    जवाब देंहटाएं
  7. प्रेम और एहसास से लबरेज सुन्दर सृजन,सादर 🙏

    जवाब देंहटाएं
  8. बेवजह होनेवाला एहसास ही खास होता है। एहसास की कोई वजह तो तो वह सामान्य सा लेन देन का रिश्ता बन जाता है।

    जवाब देंहटाएं
  9. पल पल होने वाले अहसास ही हम में मानवीय गुणों का संचार करते हैं जिनमें प्रेम का अहसास सबसे अनूठा है । ढाई अक्षर के भाव को पोषित करता अनुपम सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  10. सिवाए इसके की मैं तुझे प्रेम करने के लिए पैदा हुआ हूँ
    मेरे जंगली गुलाब तेरे होने का एहसास मेरी साँसों तक तो है न ... अहसास का बेहतरीन चित्रण ।

    जवाब देंहटाएं
  11. जंगली गुलाब के होने का एहसास साँसों को
    इससे बेहतर एहसास और क्या...
    बहुत ही लाजवाब
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  12. तुझे प्रेम करने के लिए पैदा हुआ हूँ
    मेरे जंगली गुलाब तेरे होने का एहसास मेरी साँसों तक तो है न ... //////
    👌👌👌👌🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  13. ....बेहद खूबसूरत बहुत ही लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  14. पढ़कर स्तब्ध रह गया हूँ दिगंबर जी। कहूँ भी तो क्या कहूँ?

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है