जख्म लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जख्म लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 12 अक्तूबर 2020

यूँ ही नज़रें गड़ाए रखिएगा

 ज़ख्म अपने छुपाए रखिएगा
महफ़िलों को सजाए रखिएगा
 
दुश्मनी है ये मानता हूँ पर   
सिलसिला तो बनाए रखिएगा
 
कुछ मुसाफिर ज़रूर लौटेंगे
एक दीपक जलाए रखिएगा
 
कल की पीड़ी यहाँ से गुजरेगी
आसमाँ तो उठाए रखिएगा
 
रूठ जाएँ ये उनकी है मर्ज़ी
आप पलकें बिछाए रखिएगा
 
काम जाएँ कब ये क्या जानें
आंसुओं को बचाए रखिएगा
 
शक्ल उनकी दिखेगी बादल में
यूँ ही नज़रें गड़ाए रखिएगा