परोसा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
परोसा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 27 अक्तूबर 2020

मान लेते हैं हमारी हार है ...

आस्तीनों में छुपी तलवार है
और कहता है के मेरा यार है
 
गर्मियों की छुट्टियाँ भी खूब हैं
रोज़ बच्चों के लिए इतवार है
 
सच परोसा चासनी के झूठ में
छप गया तो कह रहा अख़बार है
 
चैन से जीना कहाँ आसान जब
चैन से मरना यहाँ दुश्वार है
 
दर्द में तो देख के राज़ी नहीं
यूँ जताते हैं की मुझ से प्यार है
 
खुद से लड़ने का हुनर आता नहीं  
मान लेते हैं हमारी हार है